संजू मूवी स्टोरी हिंदी में

sanju movie story in hindi

संजू मूवी स्टोरी

मूवी डिटेल्स –

डिरेक्टेड बाई – राजकुमार हिरानी
प्रोडूसेड बाई -विधु विनोद चोपड़ा ,राजकुमार हिरानी
रिटेन बाई -राजकुमार हिरानी ,अभिजात जोशी
म्यूजिक बाई -ऐ. र. रहमान ,रोहन -रोहन
रिलीज़ डेट – २९ जून २०१८
स्टेरिंग -रणबीर कपूर ,परेश रावल ,विक्की कौशल ,मनीषा कोइराला ,दिया मिर्ज़ा ,सोनम कपूर ,अनुष्का शर्मा ,जिम सरभ

संजू की कहानी –

sanju movie story

संजू मूवी स्टोरी २०१८ में बॉलीवुड की संजय दत्त की जीवनी नाटक है, जिसे राजकुमार हिरानी द्वारा लिखा और निर्देशित किया गया है। फिल्म में रणबीर कपूर, अनुष्का शर्मा, परेश रावल, सोनम कपूर, दिया मिर्ज़ा आदि प्रमुख भूमिकाओं में नजर आये हैं। फिल्म अभिनेता संजय दत्त के जीवन पर आधारित है, जिसमें रणबीर कपूर ने संजय दत्त के किरदार निभाया है। फिल्म में संजय दत्त के जीवन की विभिन्न घटनाओं को दिखाया गया है , जैसे – उनके छोटे दिनों में उनकी कहानी , उनके जीवन की महिलाओं और उनके जेल में जीवन की कहानी।

फिल्म की शूटिंग १२ जनवरी २०१७ को रणबीर कपूर और अन्य प्रमुख सितारों के साथ शुरू हुई।

यह फिल्म एक नवोदित युवा अभिनेता के रूप में संजय दत्त के साथ शुरू होती है, जिसका निर्देशन सुनील दत्त ने अपनी पहली फिल्म रॉकी में किया है। संजय दत्त को संभालने के लिए उनके पिता सुनील दत्त के सिद्धांत बहुत अधिक स्पष्ट है। इससे पहले कि कोई इसे जानता, संजय दत्त बुरी संगत में पड़ जाता है और ड्रग्स लेने लगता। संजय दत्त के दोस्त और ड्रग सप्लायर जुबिन मिस्त्री हैं,जिन्हें गॉड (जिम सर्भ) के नाम से भी जाना जाता है।  ड्रग्स लेने की आवारा घटनाएं जल्द ही एक ऐसी लत में बदल जाती हैं जिससे संजय दत्त की जान को खतरा बन जाता है। कहानी में यह भी दिखाया गया है कि कैसे संजय दत्त शराब का सेवन करते है, जबकि उनकी मां, नरगिस दत्त (मनीषा कोइराला) घर पर पड़ी कैंसर से जूझ रही हैं, संजय की मां के अस्पताल में भर्ती होने के दौरान संजय दत्त ने कमलेश से मुलाकात की, जो संजय का बहुत ही करीबी दोस्त बन जाता था। कमलेश अमेरिका से तब आता है, जब संजय को उसकी प्रेमिका रूबी (सोनम कपूर) के बाद उसकी जरूरत होती है, क्यूंकि रूबी के पिता एक एनआरआई लड़के के साथ उसकी शादी तय केर देते हैं।

कहानी इस तरह के स्तर पर आती हैं कि मम्मी के निधन और रूबी के साथ संजय का ब्रेक-अप के बाद, संजय को संयुक्त राज्य अमेरिका में पुनर्वास में रखा जाता है। और वह संजय सुधर जाता है और अपने पिता के साथ यूएसए से लौट आता है। संजय और उसके दोस्त, कमलेश के बीच का बंधन बहुत मजबूत होता है – इतना मजबूत कि कमलेश संजय के पक्ष में है , जब भी संजय को कमलेश की आवश्यकता होती है।वह उससे मिलता था, सुनील दत्त को कमलेश में एक सच्चे पारिवारिक मित्र का रूप दिख रहा था ,और सुनील दत्त कमलेश को बहुत पसंद करता था।

१९९३ में संजय दत्त एक बहुत ही लोकप्रिय और सफल बॉलीवुड स्टार बन जाते है उसके बाद संजय दत्त को बिना लाइसेंस के एके -५६  राइफल रखने के आरोप में गिरफ्तार किया जाता है। १९९३ में बॉम्बे में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के तुरंत बाद संजय दत्त के पास बंदूक के साथ पकडे जाने के कारण मीडिया ने उसे आतंकवादी बना दिया। और फिर संजय दत्त को जेल हो गई। उनके पिता और उनका परिवार तबाह हो गया। लेकिन उसके बाद भी संजय के पीछे खड़े रहते हैं।  सुनील दत्त के अच्छे कनेक्शनों के बावजूद भी, कोई मदद करने को तैयार नहीं है,क्योंकि संजय ने ड्रोन टाडा को थप्पड़ मारा था। कमलेश इन कोशिशों के दौर में एक सच्चे स्तंभ की तरह उनके साथ खड़ा है।

लेकिन कुछ दिनों के बाद संजय को जमानत मिल गई। लेकिन एक समय ऐसा भी आया जब मीडिया द्वारा रिपोर्ट किए जाने के बाद भी कमलेश ने संजय दत्त से नाता तोड़ लिया और उससे अलग हो गया , क्योंकि आरडीएक्स वाला एक ट्रक संजय दत्त के काम्प्लेक्स में खड़ा पाया गया था। कमलेश जो उस समय भारत में संजय दत्त के घर पर थे, संयुक्त राज्य अमेरिका को वापस जाने के लिए रवाना होते है,और संजय को यह बताता है कि दोस्ती यही पर समाप्त होती है। दत्त परिवार बहुत ही तकलीफो से गुजरता है क्योंकि कानूनी लड़ाई वर्षों तक चलती है। कुछ दिनों बाद सुनील दत्त का निधन हो जाता है ,सुनील दत्त के अंतिम सांस लेने से एक दिन पहले,संजय ने एक भाषण तैयार किया था,जिसे वह अपने पिता की प्रशंसा में एक सार्वजनिक मंच पर बोलने वाला था। उस भाषण में संजय अपने पिता के साथ अपने सच्चे प्यार के बारे में बताना था, क्यूंकि संजय और उसके पिता के साथ उसके रिश्ते स्पष्ट कारणों से तनावपूर्ण थे। लेकिन भाग्य ने इतना साथ नहीं दिया था कि भाषण की सुनील दत्त को संजय दत्त द्वारा सुनाया जा सके।

वर्षों बाद संजय दत्त के बंदूक रखने के मामले में अंतिम निर्णय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा सुनाया गया। जिस फैसले में बंदूक के अवैध कब्जे के लिए संजय को आर्म्स एक्ट के तहत दोषी करार दिया गया, लेकिन संजय को टाडा के तहत बरी कर दिया जाता है। और बाद में संजय को पांच साल की जेल की सजा दी जाती है। जेल जाने से पहले, संजय दत्त ने लेखक विनी डियाज़ (अनुष्का शर्मा) को दुनिया को यह बताने के लिए अपनी कहानी लिखने के लिए मनाया कि वह आतंकवादी नहीं है। पहले अनिच्छुक, विनी डियाज़ उनकी जीवनी को कलमबद्ध करने के लिए सहमत हो जाते है, लेकिन उसकी दुविधा तब और बढ़ जाती है, जब वह संजय दत्त के संयुक्त राज्य अमेरिका में रह रहे दोस्त कमलेश से मिलता है। अंत में, मानयता दत्त (दीया मिर्ज़ा) विनी को संजय दत्त के रेडियो शो की रिकॉर्डिंग देती है जिसे वह जेल में होस्ट करता है। ,और यही पर संजय दत्त की कहानी का समापन हो जाता है।

मूवी ट्रेलर-

संजू मूवी स्टोरी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*