बजरंगी भाईजान मूवी स्टोरी हिंदी में – bajrangi bhaijaan story

bajrangi bhaijaan movie story in hindi , movie story

बजरंगी भाईजान मूवी स्टोरी

मूवी डिटेल्स –

डिरेक्टेड बाई – कबीर खान
रिटेन बाई – कबीर खान
प्रोडूसेड बाई -सलमान खान,रॉकलिन वेंकटेश ,कबीर खान
म्यूजिक बाई – प्रीतम
रिलीज़ डेट – १७ जुलाई २०१५
स्टेरिंग – सलमान खान ,हर्षाली मल्होत्रा , नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी, करीना कपूर खान

बजरंगी भाईजान मूवी स्टोरी

पाकिस्तान के आजाद कश्मीर के एक गांव सुल्तानपुर में भारत और पाकिस्तान के बीच चल रहे क्रिकेट मैच को टेलीविजन पर देखने के लिए सभी ग्रामीण इकट्ठा होते हैं। इनमें एक गर्भवती महिला है जिसका नाम रसिया (मेहर विज) है,जो एक बच्ची को जन्म देती है और उसका नाम   शाहिद अफरीदी के नाम पर साहिदा रखती है,जो खिलाड़ी पाकिस्तान के लिए हालही में क्रिकेट मैच जीतता है। जब शाहिदा (हर्षाली मल्होत्रा),  छह साल की हो जाती है,तो एक दिन दोपहर में खेलने के दौरान एक चट्टान से गिर जाती है और एक पेड़ से लटक कर बच जाती है लकिन वह गूंगी होने के कारन किसी को मद्दद के लिए नहीं पुकार सकती है । पाकिस्तानी सेना के एक पूर्व सदस्य शाहिदा के पिता रऊफ को भारत का बीजा नहीं दिया जाता है। एक रसिया दिल्ली में सूफी संत निजामुद्दीन औलिया के मंदिर में साहिदा को ले जाता है और वह पर वह शाहिदा की आवाज को वापस लाने में उसकी मद्दद करता है।

दिल्ली से लौटते हुए, ट्रेन एक वाघा क्रॉसिंग से थोड़ी दूर मरम्मत के लिए रुकती है वही पर शाहिदा एक मेंमने को बचाने के लिए ट्रैन से उतर जाती है लकिन जबतक शाहिदा दोबारा ट्रैन में चढऐ इससे पहले ही ट्रैन चल देती है, शाहिदा एक मालगाड़ी में सवार हो जाती है और हरियाणा के कुरुक्षेत्र में उतर जाती है। वहा पर शाहिदा एक मेले में पवन कुमार चतुर्वेदी उर्फ ​​बजरंगी (सलमान खान) से मिलती है ,जो की हनुमान का बहुत बड़ा भक्त होता है ,बजरंगी शाहिदा को अपने घर ले आता है और उसका नाम मुन्नी रखता है और शाहिदा से यह जानने की कोशिस करता है की वह कहा से है।  

नौकरी की तलाश में पवन उर्फ़ बजरंगी अपने पिता की आज्ञा का पालन करता है और अपने पिता के दोस्त कुश्ती कोच दयानंद पांडे (शरत सक्सेना) के घर दिल्ली चला जाता है। दयानंद पांडे की बेटी रसिका (करीना कपूर खान) के साथ पवन काफी समय बिताने के बाद,वे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते है। दयानंद इस शर्त पर रसिका की शादी पवन के साथ करने का वादा करता है कि पवन के पास नौकरी और अपने लिए एक अलग घर हो। तभी वह पवन के साथ राशिका की सदी करेगा। उसी समय पवन मुन्नी को दयानंद से मिलाने के लिए लाता है,

जिसके बाद मुन्नी दयानन्द के घर पर ही रहने लगती है।  एक दिन जब इंडिया वस पाकिस्तान मैच चल रहा होता है सभी एक साथ टेलीविजन पर मैच देख रहे होते है ,तभी मुन्नी पाकिस्तानी टीम की जयकार करती है उसी समय पता चला है कि मुन्नी एक पाकिस्तानी मुस्लिम है।  और यह बात जानकर दयानंद पवन से नाराज हो जाता है और मुन्नी को पाकिस्तान भेजने का इंतजाम करता है। लकिन उसकी यह कोसिस नाकाम हो जाती है और जिस एजेंट से मुन्नी को पाकिस्तान भेजने के लिए कहा जाता है वह उसे पाकिस्तान न ले जाकर उसे एक कोठे पर बेच देता है तभी यह बात पवन को मालूम पड़ती है वह तुरंत उस कोठे पर जाता है और मुन्नी को वह से छुड़ा कर ले आता है और उसी दिन पवन मुन्नी को बिना बीजा के ही पाकिस्तान भेजने की कसम खाता है।

पवन और मुन्नी पाकिस्तान में प्रवेश कर जाते है लकिन वह पवन को भारतीय जासूस होने के संदेह में गिरफ्तार कर लिया जाता है। फिर पवन वह से मुन्नी को लेकर किसी तरह भाग निकलता है और वह चांद नवाब (नवाजुद्दीन सिद्दीकी) से जाकर मिलता है,  और तब नवाब मुन्नी के माता – पिता को खोजने में पवन का साथ देने की सोचता है। फिर उसकी मुलाकात एक इस्लामिक धार्मिक विद्वान मौलाना असद (ओम पुरी) से होती है,जो उन्हें पुलिस द्वारा न पकड़ने जाने में मदद करता है। मुन्नी एक केलिन्डर में अपने घर का छेत्र पहचानती है और उसी तरफ चलने के लिए इशारा करती है।

चाँद नवाब अपनी बात को कहने के लिए एक वीडियो बनता है और उसे चलने के लिए एक टेलीवीजन चैनल के पास जाता है लकिन वहा चैनल के प्रमुख शमशेर अली (हर्ष ए। सिंह) उस वीडियो को चलाने से मना कर देते है। और वह से निराश होकर वह वीडियो को यूट्यूब पर अपलोड करता है, मुन्नी अपने माता – पिता( जहा हो रहती थी) की जगह को पहचानती है और पवन से उसी ओर चलने के लिए कहती है और मुन्नी ने अपने घर को सुल्तानपुर शहर में पहचाना। पवन और मुन्नी सभी लोग सुल्तानपुर की बस में सवार होते है  कुछ दूर पर पुलिस वाले बस को रोकते है क्यूंकि उनको एक भारतीय जासूस की तलाश है पवन उनका धयान बचा कर बस से उतर जाता है। और जंगल की तरफ भागता है और भागते समय पवन को पुलिस द्वारा गोली लग जाती है ,और इसी तरह नवाब और मुन्नी सुल्तानपुर पहुंच जाते है जहा पर मुन्नी अपने माता – पिता से मिलती है।

नवाब द्वारा अपलोड किए गए वीडियो पूरे भारत और पाकिस्तान में वायरल होते हैं। यह जानकारी एक दयालु वरिष्ठ अधिकारी, हामिद खान (राजेश शर्मा) को पता चलता है,कि पवन निर्दोष है,और उसने उसे जेल में रखने के आदेश को ठुकराते हुए पवन को रिहा कर दिया है।  नवाब के एक आवाज से हजारों पाकिस्तानी और भारतीय नावल चेक पोस्ट पर एकत्र होते हैं, जहां से पवन को भारत वापस लौटाया जाता है।जैसे ही पवन सीमा पार करता है शाहिदा भी उसी भीड़ में होती है शाहिदा पवन की तरफ दौड़ती है पवन भी शाहिदा की तरफ दौड़ता है और दोनों एक दूसरे के गले लग जाते है।

मूवी ट्रेलर-

बजरंगी भाईजान मूवी स्टोरी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*